2020 और कोरोना


 जनवरी की उस सर्द ऋतु में।
 सब कुछ अच्छा चल रहा था।
 सुखद समय था मनुज तेज जब।
 रवि सरीखा जल रहा था।
 राष्ट्र चढ़े सीढ़ी विकास की,
 यह स्वप्न नेत्र में पल रहा था। 

  सहसा एक विषाणु आया।
 संग वो भीषण आतप लाया।
 बन्द हुआ तब राष्ट्र समूचा।
 रुका प्रगति का हर पाया।
 धूल हुए सब स्वप्न हमारे।
 भय का ऐसा अंधड़ छाया। 
 
रिश्ते भूले नाते भूले
 कई सितारे फंदों झूले।
 हीरे खोये हमनें कुछ तो।
 सांस कई अपनों के फूले। 
 अलग अलग सब रहना होगा।
 कहीं न मृत्यु आकर छू ले।  
 
लगा शवों का मेला ऐसे।
 यम दूतों का रेला जैसे।
 शंका थी हर मन विचलित था।
 जीव हरण का खेला जैसे।
 निःशब्द जग, निरुत्तर रक्षक।
 था हर जन अकेला जैसे। 
 
फिर कर्म जगा उल्लास जगा।
 फिर भावों का आभास जगा।
 तज पीड़ा सब निकल पड़े।
 फिर चारों ओर उजास जगा।
 अपनी रक्षा अपने हाथ।
 मानस का विश्वास जगा। 

 
संभल चलें, चतुराई हो।
 फिर नई भोर अंगड़ाई हो।
 स्व-रक्षा का मंत्र पढें हम।
 फिर रिश्तों में तरुणाई हो।
 ध्यान रहे पर इसका सबको।
 दवा तलक न ढिलाई हो।
 दवा तलक न ढिलाई हो। 

- मुसाफ़िर 

You may also Like-

भली सी एक शक्ल थी-अहमद फ़राज़

होठों पे मोहब्बत के फ़साने नहीं आते- शायर बशीर बद्र

ये एक बात समझने में रात हो गई है

Featured Image courtesy- Bioworld.com

Categories:poetry, UncategorizedTags: , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: