Ajab Corona Kaal hai- अजब कोरोना काल है


Connect

अजब कोरोना काल है, इसमें बीमार होना मुहाल है।
बीते दिनों मैं बीमार पड़ा, टाइफाइड वायरल के हत्थे चढ़ा।
हालत तो हुई पतली मेरी, पर ज़माने का भी पता चला ॥

सहयोगियों की तिरछी निगाहों का सामना हुआ।
मेरी परछाई से भी डर के उनका भागना हुआ।
बदले इस व्यवहार को मुश्किल मानना हुआ ॥

मेरी सोच, उनका व्यवहार देख के बदल गई।
देख आचरण ऐसा, बिमारी और भी प्रबल भई।
हुई दवा बेअसर मुझपे, मनोदशा ऐसा मसल गई॥

उस पर अकेलेपन का एहसास उभर आया।
बंद चार दीवारों में, मौत का कुआँ नज़र आया।
रेंगते कीड़ों को देख, अवसाद और गहराया ॥

ऐसे में महादेव के दर्श ने साहस बढ़ाया।
अचेतन अवस्था में मुझे ये समझाया।
पकड़ ले घर का रस्ता, ले ले तू परिवार का साया॥

घर के प्रांगण में घुसते ही चेतना सी आ गई।
अपनों के सानिध्य से जीवन की प्रेरणा छा गई।
ज्यों मरू को सावन की झड़ी कलेजे से लगा गई॥

शुक्र है कोरोना नहीं था वरना क्या हाल होता?
इस डरावने माहौल में तो अस्पताल भी न मुहाल होता।
बहुतों की तरह मैं भी बन गया बेताल होता॥

यूँ तो इस दौर में हमदर्द भी मुझे मिले।
पूछा हाल, रहे संवेदनाओं के सिलसिले।
शुभकामनाएं उन्हीं की जो हम वापस मिले॥

माना बड़ा मायूसी भरा है यह काल।
पर रखें सावधानी और अस्वस्थों का ख़याल।
बढ़ाएं उत्साह उनका, रखें हृदय विशाल॥

भले पास न जाएँ, पर देख के तो मुस्काएं हम।
कोरोना के नाम पे, करुणा न बिसरायें हम।
है देवत्व गुण हमारा, आओ इसे अपनाएं हम॥

You may also Like-

बचपन

तलाश

कागज़ फाड़ दिए मैंने

About the Author

Dr Rakesh Kumar Sharma

A chemistry genius and a poet at heart, Dr. Sharma writes poems with humour and satire on contemporary issues. He calls himself An Intolerant Indian owing to his straight forwardness.

Connect to Dr. Sharma on twitter


Categories:Guest Poetry, poetry, UncategorizedTags: , , , , , , , , , , , , , , ,

17 comments

  1. Dr Sharma showed the helplessness of Covid Patient
    very humoursly and I found this very interesting and true either. Family is always there with you in every situation. Therefore family must be everyone’s top priority.

    Like

  2. Heart touching poem sir

    Like

  3. Mr Sharma explained the Plight of common man in covid crisis in very simple yet powerful words

    Like

    • Thanks Sir for liking and sparing time for writting nice comments. It will encourage me to present more social issues in poeteric form.

      Like

  4. Super, real facts you have shown here.

    Like

  5. Heart touching poem🙏

    Like

  6. Thanks a lot for liking and encouragement Regards

    Like

  7. Dear Dr Sharma’well crafted and very pertinent exhibiting reality in corona Kal.

    Like

  8. Superb poem , hilarious as well as thought provoking 👌👌👌👌👌

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: