जब शाम होती है

वो पल जो मैंने खो दिए , रोटी की आज़त में । रूठे से मुझसे मिलते हैं , जब शाम होती है।।   परिंदा जो उड़ के सुबहो को दाना कमाने जाता है । ज़ख़्मी बदन आता है वो , जब शाम होती है।।   दरिया को भी अब देखकर मैं खौफ खाता हूँ ।... Continue Reading →

Featured post

The Monochromes

The Ajodhya Pahar Area in Puruliya District, West Bengal. A walk through the Santhal Tribal Village.      

Featured post

कागज़ फाड़ दिए मैंने

कागज़ फाड़ दिए मैंने   सींचे थे खून पसीनों से, लिख पढ़ के साल महीनों से, रद्दी के जो ज़द हुवे, निरर्थक जिनके शब्द हुवे, पुरानी उपाधियां, प्रमाणपत्र, आज झाड़ दिए मैंने, काग़ज़ फाड़ दिए मैंने। डूबे थे इश्क़ जज़्बातों में, खाली दिन सूनी रातों में, मेहबूब की मीठी बातों में, यौवन की बहकी यादों में, ताकों... Continue Reading →

Featured post

Spiti Bike trip (A Forbidden valley of beauty and challenges)

Lonely Musafir

The preparations

Spiti has always been to my cards and plan to this exquisite beauty was made all of a sudden. One of my school buddy called me and after three days we were travelling to Manali for a much awaited dream safari.

Travelling to such locations turns you speechless and then turns you into a story teller. Same happened to me. So here I narrate a story nothing less than a fairy tale.

Lahaul-Spiti has a population density of 2 persons per kilometer. It itself reflects the remoteness of this region. The roads, the climate and the topography poses a humongous challenge before the travelers. For such terrain one have to prepare well to avoid unpleasant surprises.

We packed the following in our bags:

1. Bikers jacket with Fleece and hood (Rainwarm 3 in1 Quechua) that can protect you from cold and rain.

2. Gum boots and 

View original post 2,964 more words

Featured post

मुझे तू याद आती है

सुलगते दिन ठिठुरती रातों में बैठे बैठे यूँ ही यादों में, जाने अनजाने लोगों से मुलाकातों में, किसी की प्यार भरी बातों में, मुझे तू याद आती है। मेरे सितारों की गर्दिश में, मन के तारों की बंदिश में, किसी चेहरे की कशिश में, कुछ भुलाने की कोशिश में, मुझे तू याद आती है। ज़िन्दगी... Continue Reading →

Featured post

कागज़ फाड़ दिए मैंने

Lonely Musafir

कागज़ फाड़ दिए मैंने



useless-degrees.jpg



सींचे थे खून पसीनों से,
लिख पढ़ के साल महीनों से,

रद्दी के जो ज़द हुवे,
निरर्थक जिनके शब्द हुवे,

पुरानी उपाधियां, प्रमाणपत्र,
आज झाड़ दिए मैंने,
काग़ज़ फाड़ दिए मैंने।



letters.jpg



डूबे थे इश्क़ जज़्बातों में,
खाली दिन सूनी रातों में,

मेहबूब की मीठी बातों में,
यौवन की बहकी यादों में,

ताकों से तकियों तक वो,
सारे रिश्ते गाड़ दिए मैंने,
काग़ज़ फाड़ दिए मैंने।



termite currency.jpg

तिन-तिन कर संपत्ति जोड़ी मैंने,
निज सुख तजकर जो थोड़ी मैंने,

रिश्ते नातो से मुँह मोड़,
सब बंधन प्यारे के तोड़-छोड़ ,

नोट, गड्डियों से चिपके वो,
दीमक मार दिए मैंने,
कागज़ फाड़ दिए मैंने।



friends

यारों की तस्वीरें थी,
रूठी हुई तकदीरें थी,

गुज़रे दिन, ओझल जज़्बात,
थके हुवे अब दिन ये रात,

भूले बिसरे जाने कितने ,
चेहरे ताड़ दिए मैंने,
काग़ज़ फाड़ दिए मैंने।



kopal

जीवन की आपा धापी में,
मैं रहा जाम और साकी में,

बंजर राहों पे बरसा में,
हरियाली को…

View original post 17 more words

मेरे पास रहा कर

खुदा से मेरी आखिरी, अरदास रहा कर । तू ख्वाब में सही, मेरे पास रहा कर ।।   ये इश्क़ की सिरहन न ले ले जान आशिक़ की। तू मुझसे दुश्मनी कर, नाराज़ रहा कर ।।   डूब कर जीने का मज़ा और है हमदम। इस तैरती कश्ती पे तू , सैलाब रहा कर।।   मैं वो... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑