मेरे पास रहा कर

खुदा से मेरी आखिरी, अरदास रहा कर ।

तू ख्वाब में सही, मेरे पास रहा कर ।।

 

ये इश्क़ की सिरहन न ले ले जान आशिक़ की।

तू मुझसे दुश्मनी कर, नाराज़ रहा कर ।।

 

डूब कर जीने का मज़ा और है हमदम।

इस तैरती कश्ती पे तू , सैलाब रहा कर।।

 

मैं वो शजर, पंछी का आशियां नहीं जहाँ ।

कभी तो मेरे शाहीन, बेपरवाज़ रहा कर ।।

 

रात भर जागा “मुसाफिर” याद में तेरी ।

इस मुक़द्दर का कभी महताब रहा कर ।।


“मुसाफिर”


सिरहन- Shivering

शजर- Tree

सैलाब- Cyclone

शाहीन- White Pigeon

बेपरवाज़- Flight Less

महताब- Moon


 

Advertisements

2 thoughts on “मेरे पास रहा कर

Add yours

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: