जब शाम होती है


वो पल जो मैंने खो दिए , रोटी की आज़त में ।

रूठे से मुझसे मिलते हैं , जब शाम होती है।।

 

परिंदा जो उड़ के सुबहो को दाना कमाने जाता है ।

ज़ख़्मी बदन आता है वो , जब शाम होती है।।

 

दरिया को भी अब देखकर मैं खौफ खाता हूँ ।

मेरा सूरज निगल जाता है वो , जब शाम होती है।।

 

वो शायर है, दिन में महफिलों में शेर पढता है ।

वो टूटा है, बिखर जाता है, जब शाम होती है ।।

 

लगता था जिसको मौत क्या ले जायेगी उसका ।

क्यों डरता है? सहम जाता है , ज़िन्दगी की जब शाम होती है ।।

 


-मुसाफिर


PC- Google Images

Categories:poetry, Uncategorized

10 comments

  1. बहुत अच्छी
    सच में दिल छू गयी

    Liked by 1 person

  2. Lovely… Amazing

    Like

  3. Kya kahoo kuch kehna hai mushkil … teri har nazm asar kar jaati hai.. jab shaam hoti hai..

    Like

  4. Good one Bhai..

    Like

  5. Gulzar jaisa feel aata hai isme. Very nicely composed

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: